भारत का एक मशहूर गांव जहां 5 दिनों तक बिना कपड़ों के रहती हैं नयी नवेली दुल्हन जानकर होश उड़ जायेंगे

0
714

हमे बचपन से पढ़ाया जाता है मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है. मनुष्य को रहने के लिए समाज की आवश्याकता होती है. लेकिन हमे समाज में रहने के लिए तरह तरह की परम्परा भी निभानी पड़ती है. यही परम्परा हमे एक दुसरे से समाज में जोड़े रखती है. अक्सर देखा जाता है की किसी खास स्थान पर किसी खास परंपरा को लोग बहुत मानते है. लेकिन अक्सर ऐसा भी होता है की लोग कंही कंही बेहद परम्परा को भी मानते है. जैसे हम आपको एक बहुत ही अजीबोगरीब परंपरा के बारे में बताने जा रहे है.

 

भारत का एक मशहूर गांव जहां 5 दिनों तक बिना कपड़ों के रहती हैं नयी नवेली दुल्हन जानकर होश उड़ जायेंगे 1

 

आपको जानकर हैरानी होगी कि हमारे भारत देश में एक ऐसी अलग जगह है जगह पर शादीशुदा महिलाएं 5 दिनों तक बिना कपड़ो के रहती है. सुनने में यह बहुत अजीब लगता है लेकिन यह पूरी तरह सच है. ऐसी एक जगह है जहा ये परंपरा का पालन किया जाता है. जिस महिला की शादी होती है उसे करीब पांच दिन तक ऐसे ही रहना होता है और ये सालो से यही होता आ रहा है पांच दिनों तक एक भी कपडा नहीं पहनती.

भारत का एक मशहूर गांव जहां 5 दिनों तक बिना कपड़ों के रहती हैं नयी नवेली दुल्हन जानकर होश उड़ जायेंगे 2

 

भारत का एक मशहूर गांव जहां 5 दिनों तक बिना कपड़ों के रहती हैं नयी नवेली दुल्हन जानकर होश उड़ जायेंगे 3

हम जिस गाँव की बात कर रहे है वो हिमाचल प्रदेश के मणिकर्ण घाटी में पीणी गांव है. इस गांव की ये परंपरा हर कोई मंटा है और शादी के बाद वो पांच दिन तक लड़की को कपडे नहीं पहनने देते है और साथ ही वो उससे उसके पति से भी दूर रखते है पांच दिनों से और उस दुल्हन को वो सब की नजरो से दूर रहते है ताकि उसपर किसी की बुरी नजर न पड जाये. कहा ये भी जाता है की इस परंपरा की मनीयता बहुत है ऐसा करने पर जीवन में कोई भी पेशानिया नहीं आती ख़ुशी से अपना जीवन बीत जाता है

 

भारत का एक मशहूर गांव जहां 5 दिनों तक बिना कपड़ों के रहती हैं नयी नवेली दुल्हन जानकर होश उड़ जायेंगे 4

दरअसल यह परम्परा इस गाँव में सदियों से चली आ रही है और यहाँ के लोगों का मानना है की यदि किसी ने ऐसा नही किया था यह उसके लिए अपशगुन हो जायेगा और उसे ज़िन्दगी में बहुत सारे कष्टों का सामना करना पड़ेगा. यहाँ के लोगों में इस बात का इतना खौफ है की अगर कोई इस प्रक्रिया का हिस्सा न बने तो लोग उसे अपनी जाती से बाहर कर देते है और उससे कोई भी किसी भी प्रकार का रिश्ता नहीं रखता है. वहीँ दूसरी तरह भगवान के खुश होने की बात के चलते ज्यादातर लोग ख़ुशी ख़ुशी इस परम्परा का सम्मान करते है.