अभी अभी : 150 से ज्यादा फिल्मो में काम कर चुके एक्टर का नि’धन, अंतिम समय में इलाज के पैसे भी नहीं जुटा पाए

0
1642

150 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके 70 वर्ष के बौने कलाकार नत्थू दादा का शनिवार तड़के छत्तीसगढ़ में राजनांदगांव के पास अपने गांव रामपुर में नि’धन हो गया। राजकपूर के साथ ‘मेरा नाम जोकर’ से फिल्मी करिअर शुरू करने वाले दो फुट के नत्थू दादा कई महीनों से बीमार थे। उनका पूरा नाम नत्थू रामटेके था और वे बदहाली में पत्नी के सहारे जिंदगी बिता रहे थे। उन्होंने ‘मेरा नाम जोकर’ के अलावा ‘कस्मे वादे, ‘शक्ति’, ‘राम बलराम’, ‘उड़नछू’, ‘खोटे सिक्के’, ‘टैक्सी चोर’, ‘अनजाने’ जैसी फिल्मों में काम किया था।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नत्थू दादा के नि’धन पर गहरा दुःख प्रकट किया है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘छत्तीसगढ़ के सुप्रसिद्ध फिल्म कलाकार श्री नत्थू दादा के नि’धन की दुःखद सूचना मुझे प्राप्त हुई है। उनका जाना फिल्म जगत और कलाकार जगत के साथ छत्तीसगढ़ प्रदेश की भी एक क्षति है। मैं दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना करता हूं। “वे छोटे कद के बड़े कलाकार थे” ॐ शांति:।’

दिसंबर की शुरुआत में उन्हें बुखार हुआ था और उसके बाद उन्होंने सरकार तक अपनी पीड़ा पहुंचाई थी। उन्होंने सरकार से आर्थिक मदद और नौकरी की मांग की थी। नत्थू दादा ने यह भी कहा था कि अगर सरकार उन्हें कोई मदद नहीं दे पाएगी तो फिर उनके सामने परिवार के साथ सामूहिक आत्महत्या जैसा कदम उठाने पर मजबूर होना पड़ेगा।

नत्थू दादा ने बताया था कि 1982 में आई फिल्म धर्मकांटा के दौरान रीढ़ की हड्‌डी में चोट लगने के कारण वे बुरी तरह घायल हो गए थे। फिल्म के एक सीन में अमजद खान को उन्हें फेंकना था और दूसरे कलाकार को पकडऩा था लेकिन वे ऊंचाई से गिर गए और जख्मी हो गए। इसके बाद वे वापस अपने गांव आ गए। दोबारा मुंबई जाने की कोशिश की लेकिन घर वालों ने नहीं जाने दिया और शादी करा दी। नत्थू दादा ने अपने संरक्षक रहे दारा सिंह के साथ तीन फिल्मों में काम किया है। मेरा नाम जोकर के अलावा दूसरी फिल्म पंजाबी में बनी दुख भंजन तेरा नाम और तीसरी का नाम अब नत्थू दादा को याद नहीं है।