दिल्ली निजामुद्दीन मामले पर नवाजुद्दीन ने दी प्रतिक्रिया, बोले- खुद के साथ ही औरों की जिंदगी को भी खतर में डाल रहे!

0
157

दोस्तों कोरोना महामारी के चलते पूरा देश लॉक डाउन है साथ ही लोगो को भीड़ न करने की सलाह दी गई है लेकिन हाल ही में  बहुत ही गंभीर मामला सामने आया है, दक्षिण दिल्ली के इलाके हजरत निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी मरकज जमात से जुड़े लोग लगातार सामने आ रहे हैं, जो खुद के साथ दूसरों के स्वास्थ्य के लिहाज से भी खतरा बन गए हैं।

दिल्ली निजामुद्दीन मामले पर नवाजुद्दीन ने दी प्रतिक्रिया, बोले- खुद के साथ ही औरों की जिंदगी को भी खतर में डाल रहे! 7

दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के मरकज में कोरोना संक्रमितों के मिलने से पूरे देश में हल्ला मच गया है। यहां मिले 24 लोग संक्रमित पाए गए हैं जबकि 441 संदिग्धों को अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। मरकज में शामिल लोग उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल सहित देश के कई राज्यों में पहुंच चुके हैं। प्रशासन इनकी तलाश में जुटा है, ताकि इन्हें तुरंत क्वारंटीन किया जा सके। ऐसी लापरवाही पर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। इसी बीच अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी का कहना है कि ऐसा करने से कई जिंदगियां खतरे में पड़ रही हैं।

दिल्ली निजामुद्दीन मामले पर नवाजुद्दीन ने दी प्रतिक्रिया, बोले- खुद के साथ ही औरों की जिंदगी को भी खतर में डाल रहे! 8

नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने कहा, “इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आप किस धर्म से ताल्लुक रखते हैं। सरकार द्वारा लागू किए गए लॉकडाउन का उल्लंघन करके आप न सिर्फ अपनी खुद की जिंदगी खतरे में डाल रहे हैं बल्कि आप कई औरों की जिंदगी को भी खतर में डाल रहे हैंतमिलनाडु की स्वास्थ्य सचिव बीला राजेश ने जानकार दी है कि तमिलनाडु के 45 लोग जो दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में शामिल हुए थे, उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। वहीं विशाखापट्टनम में भी कोरोनो वायरस के चार नए मामलों की पुष्टि हुई है। प्रशासन ने बताया है कि  ये चारों लोग निजामुद्दीन मरकज में शामिल हुए थे।

दिल्ली निजामुद्दीन मामले पर नवाजुद्दीन ने दी प्रतिक्रिया, बोले- खुद के साथ ही औरों की जिंदगी को भी खतर में डाल रहे! 9

बता दे की गृह मंत्रालय ने जानकारी दी है कि 21 मार्च तक, हजरत निजामुद्दीन मरकज में लगभग 1,746 लोग रहे थे। इनमें से 216 विदेशी और 1530 भारतीय थे। इसके अतिरिक्त लगभग 824 विदेशी 21 मार्च को देश के विभिन्न हिस्सों में तबलीग गतिविधियां कर रहे थे। दिल्ली पुलिस आयुक्त ने जानकारी दी है कि मौलाना साद और तबलीगी जमात के अन्य के खिलाफ महामारी रोग अधिनियम 1897 और आईपीसी की अन्य धाराओं के अंतर्गत सरकारी निर्देशों के उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया है।