गोकुलधाम में लॉकडाउन के कारण पसरा सन्‍नाटा, कभी यहाँ गूंजते थे हंसी के ठहाके!

0
121

दोस्तो कोरोना महामारी के वजह से देश में लॉक डाउन कर दिया गया है, जिसका असर हर छेत्र में देखने को मिल रहा है फिल्मो के साथ साथ टीवी शो की शूटिंग बंद हो चुकी है, इस बीच टीवी जगत के पॉपुआलर शो ‘तारक मेहता का उल्‍टा चश्‍मा’ की शूटिंग लॉकडाउन के कार बंद है और गोकुलधाम में सन्‍नाटा पसर हुआ है।

गोकुलधाम में लॉकडाउन के कारण पसरा सन्‍नाटा, कभी यहाँ  गूंजते थे हंसी के ठहाके! 15

बता दे की ये शो साल 2008 से लोगो का मनोरंजन कर रहा है। चाहे होली-दीपावली हो या स्‍वतंत्रता दिवस गोकुलधाम की अलग ही धूम रहती है। लेकिन हंसी-ठ‍िठोली से गूंजने वाला यह मोहल्‍ला इन दिनों सूना पड़ा है। हाल ही में इंस्‍टाग्राम पर यूजर @fctmkoc ने गोकुलधाम की कुछ ताजा तस्‍वीरें शेयर की हैं, जिसे देख आपका दिल भी पसीज जाएगा। पूरा देश कोरोना संक्रमण के कारण लॉकडाउन में है।

गोकुलधाम में लॉकडाउन के कारण पसरा सन्‍नाटा, कभी यहाँ  गूंजते थे हंसी के ठहाके! 16 गोकुलधाम में लॉकडाउन के कारण पसरा सन्‍नाटा, कभी यहाँ  गूंजते थे हंसी के ठहाके! 17 गोकुलधाम में लॉकडाउन के कारण पसरा सन्‍नाटा, कभी यहाँ  गूंजते थे हंसी के ठहाके! 18

साथ ही गोकुलधाम के कलाकार भी अपने-अपने घरों में सेल्‍फ आइसोलेशन में हैं। ‘तारक मेहता का उल्‍टा चश्‍मा’ देश में सबसे लंबे समय से प्रसारित होने वाला सीरियल है। 28 जुलाई 2008 से इसका प्रसारण शुरू हुआ है और यह हफ्ते में सोमवार से शुक्रवार तक 5 दिन आता है।नाटककार तारक मेहता के कॉलम ‘दुनिया ने उंधा चश्‍मा’ पर आधारित है। तारक मेहता यह कॉलम गुजराती मैगजीन चित्रलेखा के लिए लिखते थे।

गोकुलधाम में लॉकडाउन के कारण पसरा सन्‍नाटा, कभी यहाँ  गूंजते थे हंसी के ठहाके! 19 गोकुलधाम में लॉकडाउन के कारण पसरा सन्‍नाटा, कभी यहाँ  गूंजते थे हंसी के ठहाके! 20 गोकुलधाम में लॉकडाउन के कारण पसरा सन्‍नाटा, कभी यहाँ  गूंजते थे हंसी के ठहाके! 21

यह शो पत्रकार  पृष्‍ठभूमि में मुंबई के गोरेगांव में स्‍थ‍ित गोकुलधाम सोसाइटी है, जहां बिजनेसमैन जेठालाल अपनी पत्‍नी दयाबेन, बेटे टपू और अपने पिता चंपकलाल के साथ रहते हैं। शो में दिलीप जोशी, जेठालाल की भूमिका में हैं, जबकि दिशा वकानी उनकी पत्‍नी दयाबेन का किरदार निभा रही हैं। शो की पॉप्‍युलैरिटी इस कदर है कि कई बड़े सितारे अपनी फिल्म के प्रमोशन के लिए गोकुलधाम पहुंचते हैं।