लॉकडाउन की इस घड़ी में झुग्गी के 250 परिवारों को रोज घर में दो वक्त का भोजन पहुंचा रही रकुल प्रीत सिंह!

0
9

दोस्तों कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के चलते देश भर में 21 दिनों के लॉकडाउन किया गया है, जिसकी वजह से हजारो लोग है जिनको परेशानियों का सामना करना पढ़ रहा है। इस परेशानी की घडी में कई लोग मदद को आगे आये कई सितारे भी इन लोगो की मदद को आगे आये, जिनमे अब अभिनेत्री रकुल प्रीत सिंह का नाम भी शामिल हो चूका है।

लॉकडाउन की इस घड़ी में झुग्गी के 250 परिवारों को रोज घर में दो वक्त का भोजन पहुंचा रही रकुल प्रीत सिंह! 7

आपदा के बीच रकुल प्रीत सिंह ने 250 परिवारों को हर दिन भोजन उपलब्ध कराने का फैसला लिया है। रकुल अपने माता-पिता कुलविंदर सिंह और राजेंद्र के साथ मिलकर इन लोगों को घर का बना हुआ खाना मुहैया करा रही हैं।  ये सभी परिवार उनके गुड़गांव स्थित घर के करीब झुग्गी-बस्ती में रहते हैं। रकुल का परिवार हर दिन इन सभी को दोनों वक्त का खाना भेज रहा है, जो उनके घर में ही तैयार होता है।लॉकडाउन की इस घड़ी में झुग्गी के 250 परिवारों को रोज घर में दो वक्त का भोजन पहुंचा रही रकुल प्रीत सिंह! 8

रकुल बताती हैं – पापा ने इस पूरे स्लम का पता लगाया, जहां लोग खाने-पीने की सामग्री तक नहीं जुटा पा रहे हैं और लॉकडाउन की वजह से काफी परेशान हैं। हमने इन सभी परिवारों को हर दिन भोजन मुहैया कराने पर विचार किया। तय किया कि हर परिवार को रोज दो वक्त का भोजन दिया जाएगा। मैने संकल्प लिया है कि लॉकडाउन खुलने तक सभी की इसी तरह मदद की जाएगी।फिलहाल हमने अप्रैल के अंत तक उन्हें खाना मुहैया कराने की ठानी है। लेकिन लॉकडाउन आगे बढ़ाया जाता है, तो मैं इस प्रयास को जारी रखूंगी। बाकी स्थिति पर निर्भर करता है। हमारी सोसाइटी में एक जगह खाना पकाया जाता है और फिर इसे जरूरतमदों तक पहुंचाया जाएगा।

लॉकडाउन की इस घड़ी में झुग्गी के 250 परिवारों को रोज घर में दो वक्त का भोजन पहुंचा रही रकुल प्रीत सिंह! 9

बता दे की रकुल ने अपने फैन्स समेत देश के सभी नागरिकों से अपील करते हुए कहा – यह समझना बहुत महत्वपूर्ण है कि हम में से कई लोग खुशकिस्मत हैं। हमारे पास घर है, पर्याप्त भोजन है , किसी चीज की कोई कमी नहीं है। इन हालातो में हमें निर्धन और जरूरतमंदो की मदद करने से पीछे नहीं हटना चाहिए। इस घड़ी में हम समाज के लिए जितना भी कर पाते हैं, उतना ही बहुत मायने रखता है। जब वे भोजन करेंगे तो उनके चेहरों पर जो मुस्कराहट आएगी, उससे बड़ी खुशी मेरे लिए कुछ हो ही नहीं सकती।