बीआर चोपड़ा की महाभारत में लोग करते मुफ्त में काम, कई घंटो लगातार चलती थी शो की शूटिंग!

0
7

दोस्तों कोरोना वायरस के चलते पुरे देश में लॉकडाउन कर दिया गया है जिसकी से लोगो को अपने घरो में रहना पड़ रहा है, इस के दौरान दूरदर्शन चैनल के पुराने सीरियल फैंस का भरपूर मनोरंजन के लिए फिर से प्रसारित किया जा रहा हैं।   पॉपुलर हिट शो रामायण और महाभारत एक बार फिर दर्शकों के सबसे पसंदीदा शो बन चुके हैं। इन दिनों सिर्फ इन्हीं सीरियल्स की चर्चा हर तरफ हो रही है।

बीआर चोपड़ा की महाभारत में लोग करते मुफ्त में काम, कई घंटो लगातार चलती थी शो की शूटिंग! 9

बता दे की इन शोज के प्रसारित होने के बाद से ही इनसे जुड़े कई किस्सों सामने आ रहे हैं। ऐसे में आज आपको बीआर चोपड़ा की महाभारत से जुड़े कुछ किस्से बता रहे हैं। जब बीआर चोपड़ा महाभारत की शूटिंग कर रहे थे उस वक्त ज्यादा संसाधन नहीं थे। उस वक्त पूरे चोपड़ा परिवार ने इस शो को बनाने में जितना साथ दिया, उतनी ही मेहनत और लगन से शो में सभी कलकारों ने काम क्या था, जिसकी वजह से ये शो उस दौर का सबसे हिट और पसंदीदा धारावाहिक बन गया।

बीआर चोपड़ा की महाभारत में लोग करते मुफ्त में काम, कई घंटो लगातार चलती थी शो की शूटिंग! 10

महाभारत में काफी अच्छी खासी स्टार कास्ट के बाद भी युद्ध के सीन को फिल्माने के लिए अक्सर सैनिकों के किरदार के लिए भारी तादात में लोगों की जरूरत होती थी,जिसके लिए आम लोगों द्वारा शो में सैनिकों के किरदार निभाया जाता  था। इस बात का खुलासा खुद  रवि चोपड़ा की पत्नी रेनू चोपड़ा ने अपने एक इंटरव्यू में किया था कि- उस वक्त कुछ ही दिनों में शो इतना पॉपुलर और हिट हो गया था कि लोग इसमे फ्री में काम करने के लिए भी तैयार थे।

बीआर चोपड़ा की महाभारत में लोग करते मुफ्त में काम, कई घंटो लगातार चलती थी शो की शूटिंग! 11 बीआर चोपड़ा की महाभारत में लोग करते मुफ्त में काम, कई घंटो लगातार चलती थी शो की शूटिंग! 12

बता दे की रेनू चोपड़ा ने इस इंटरव्यू में ये भी बताया था कि- युद्ध सीन को फिल्माने के लिए पूरी यूनिट राजस्थान गई थी। युद्ध सीन फिल्माने थे और हमें सैनिकों की जरूरत थी। तब जो पहली लाइन में सैनिक होते थे, सिर्फ उन्हीं लोगों को हायर किया जाता था। बाकी जो लोग शूटिंग देखने आते थे वो फ्री में सैनिक बनने के लिए तैयार हो जाते थे। तब सुबह 6 बजे से शाम के 6 बजे तक शूटिंग चलती थी लेकिन कभी भी स्थानीय लोगों को इससे कोई परेशानी नहीं हुई।