निधन से पहले अपनी पुस्तैनी हवेली जाना चाहते थे ऋषि कपूर, आज भी पाकिस्तान में 102 पुरानी हवेली है मौजूद!

0
48

दोस्तों बॉलीवुड फिल्म जगत की दिग्गज अभिनेता ऋषि कपूर के निधन से फिल्म जगत में शोक की लहर दौड़ गई थी ,किसी को भरोसा नहीं हो रहा था की वे अब हमारे बीच नहीं रहे है, बता दे की ऋषि कपूर के चाहने भारत में  ही नहीं बल्कि पाकिस्तान में भी पसंद किया जाता है। पहले इरफान खान फिर ऋषि कपूर के निधन से पाकिस्तान के कई बड़े नामों ने शोक व्यक्त किया। ऋषि कपूर का पाकिस्तान से पुराना नाता रहा है।

निधन से पहले अपनी पुस्तैनी हवेली जाना चाहते थे ऋषि कपूर, आज भी पाकिस्तान में 102 पुरानी हवेली है मौजूद! 13

बता दे की कपूर खानदान की हवेली अभी भी पाकिस्तान के पेशावर में हैं। पेशावर के किस्सा ख्वानी बाजार में ‘कपूर हवेली’ स्थित है। ऋषि कपूर के दादा और महान अभिनेता पृथ्वीराज कपूर का जन्म इसी हवेली में हुआ था। इसी हवेली में पृथ्वीराज कपूर के बेटे राज कपूर का भी जन्म हुआ। इसे अब ‘कपूर हवेली’ के नाम से जाना जाता है। साल 2018 में हवेली को म्यूजियम बना दिया गया।

निधन से पहले अपनी पुस्तैनी हवेली जाना चाहते थे ऋषि कपूर, आज भी पाकिस्तान में 102 पुरानी हवेली है मौजूद! 14

निधन से पहले अपनी पुस्तैनी हवेली जाना चाहते थे ऋषि कपूर, आज भी पाकिस्तान में 102 पुरानी हवेली है मौजूद! 15

बता दे की कपूर खानदान की इस हवेली का निर्माण भारत-पाकिस्तान के बंटवारे से पहले साल 1918-1922 के बीच किया गया था। पृथ्वीराज कपूर के पिता बशेश्वरनाथ ने इसे बनवाया था। बशेश्वरानाथ पेशे से सब इंस्पेक्टर थे। पृथ्वीराज उनके खानदान में पहले अभिनेता बने। करीब 40-50 कमरों वाली ये हवेली एक वक्त पर बेहद आलीशान दिखती थी। तस्वीरों में इसके रखरखाव की कमी साफ झलकती है। बता दें कि अभिनेता दिलीप कुमार का पुश्तैनी घर भी ख्वानी बाजार के पास में ही है।

निधन से पहले अपनी पुस्तैनी हवेली जाना चाहते थे ऋषि कपूर, आज भी पाकिस्तान में 102 पुरानी हवेली है मौजूद! 16 निधन से पहले अपनी पुस्तैनी हवेली जाना चाहते थे ऋषि कपूर, आज भी पाकिस्तान में 102 पुरानी हवेली है मौजूद! 17 निधन से पहले अपनी पुस्तैनी हवेली जाना चाहते थे ऋषि कपूर, आज भी पाकिस्तान में 102 पुरानी हवेली है मौजूद! 18

पहले यह हवेली पांच मंजिल की थी। भूकंप के कारण पैदा हुईं दरारों की वजह से इसके ऊपरी तीन मंजिल ध्वस्त कर दिए गए। इसके बावजूद हवेली की ठाठ देखते ही बनती है। 1990 में ऋषि इसको देखने पेशावर गए थे तब वहां से वो इसकी मिट्टी अपने साथ लेकर आए थे।साल 2016 में ऋषि कपूर ने अपनी एक पुरानी तस्वीर शेयर की थी जिसमें वह पेशावर हवेली में खड़े दिखाई दिए। उन्होंने लिखा था, ‘किसी ने ये भेजी थी। तस्वीर में रणधीर और मैं पेशावर में कपूर हवेली के बाहर दिख रहे हैं। जैसा तस्वीर में दिख रहा है कि हमारा गर्मजोशी से स्वागत किया गया था।’