फिल्म जगत का एक और सितारा हुआ कैंसर का शिकार, ‘पीके’ के एक्टर का हुआ ब्रेन कैंसर से हुआ निधन!

0
16

दोस्तों इस महामारी कोरोना के बीच बॉलीवुड फिल्म जगत से से भी अच्छी खबरों से ज्यादा बुरी खबरे सुनाने को मिल रही है, पिछले महीने फिल्म जगत ने मात्र दो दिनों दो बड़े अभिनेता को खो दिया था वही हाल ही में एक और बुरी खबर सामने आई है। बता दे की पीके’ और ‘रॉक ऑन’ जैसी हिंदी फिल्मों में नजर आ चुके अभिनेता साई गुंडेवर का बीते रविवार को अमेरिका में निधन हो गया है।

फिल्म जगत का एक और सितारा हुआ कैंसर का शिकार, 'पीके' के एक्टर का हुआ ब्रेन कैंसर से हुआ निधन! 7

खबरों की माने तो अभिनेता साई पिछले एक साल से ब्रेन कैंसर से जूझ रहे थे। साई के निधन पर उनके दोस्तों और फिल्म इंडस्ट्री के कई कलाकारों ने सोशल मीडिया पर शोक जाहिर किया है। महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने भी इस कलाकार को श्रद्धांजलि दी है।  22 फरवरी 1978 में महाराष्ट्र के नागपुर में जन्मे अभिनेता और मॉडल साई ने हॉलीवुड की कई लोकप्रिय टीवी सीरीजों जैसे; द ओरविल, स्वाट, कैग्नी एंड लैसी, द मार्स और कॉन्सपिरेसीज में काम किया है।

फिल्म जगत का एक और सितारा हुआ कैंसर का शिकार, 'पीके' के एक्टर का हुआ ब्रेन कैंसर से हुआ निधन! 8

बता दे की साल 2007 में साई भारत वापस आ गए क्योंकि उन्हें अमेरिका में रहने के लिए वहां का ग्रीन कार्ड नहीं मिला। साई को भारत में लोकप्रियता तब मिली जब वह एमटीवी के रियलिटी शो ‘एमटीवी स्प्लिट्सविला’ के चौथे सीजन में एक प्रतियोगी के रूप में नजर आए। साई ने पीके, पप्पू कैंट डांस साला, रॉक ऑन, लव ब्रेकअप जिंदगी, डेविड, बाजार और आई मी और मैं जैसी फिल्मों में कुछ छोटे मोटे किरदार किए हैं। इसके अलावा उन्हें 2016 में आई एक मराठी फिल्म ‘ए डॉट कॉम मॉम’ में मुख्य भूमिका में देखा गया था। साई एक अभिनेता तो थे ही, साथ ही वह मुंबई में खाना डिलीवर करने वाली एक सर्विस ‘फूडजिम’ के सह संस्थापक भी थे।

फिल्म जगत का एक और सितारा हुआ कैंसर का शिकार, 'पीके' के एक्टर का हुआ ब्रेन कैंसर से हुआ निधन! 9
हिंदी सिनेमा नया पिछले कुछ ही दिनों में दो महान कलाकारों ऋषि कपूर और इरफान खान को भी खो दिया है। पिछले महीने के दो अंतिम दिनों में ऐसे बेहतरीन कलाकारों को खोने के बाद पूरा सिनेजगत शोक में डूब गया था। लेकिन भारत में कोरोना वायरस की वजह से लागू लॉकडाउन के चलते इनके सगे संबंधी तक उनकी अंतिम यात्रा में शामिल नहीं हो पाए थे।