ऋषि कपूर की मौत के बाद माँ नीतू से अलग रह रहे रणबीर कपूर, भड़के लोग, सोशल मीडिया पर हो रही आलोचना!

0
407

दोस्तों बॉलीवुड अभिनेता ऋषि कपूर का हाल ही में निधन हो गया था, लेकिन हाल ही में रणबीर कपूर की सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल हो रहे है। क्योंकि लोगों को यह बात पसंद नहीं आ रही है की पिता ऋषि के देहांत के बाद मां नीतू कपूर के साथ ठहरने की जगह वह अपने अलग घर में रह रहे हैं। ऐसे में उनके गुजर जाने के बाद छोटी से छोटी चीज भी उसकी याद दिलाती है। इस स्थिति में व्यक्ति खुद के इमोशन्स पर काबू नहीं रख पाता है।

ऋषि कपूर की मौत के बाद माँ नीतू से अलग रह रहे रणबीर कपूर, भड़के लोग, सोशल मीडिया पर हो रही आलोचना! 7

इस स्थिति में उन्हें संभालने, सकारात्मक बातें करने और दुख से उबरने में मदद करने के लिए परिवार या क्लोज्ड वन्स का पास में होना बेहद जरूरी होता है। दुख में डूबे व्यक्ति को खाने तक का ख्याल नहीं रहता है, जो उसकी तबीयत ख़राब हो सकती है। इस स्थिति में किसी ऐसे का उसके साथ होना जरूरी है, ऐसे में अगर व्यक्ति अकेला हो, तो यह उसके लिए खतरनाक साबित हो सकता है। यही वजह है कि दुख की घड़ी में अपनों का साथ होना और भी ज्यादा जरूरी हो जाता है।

ऋषि कपूर की मौत के बाद माँ नीतू से अलग रह रहे रणबीर कपूर, भड़के लोग, सोशल मीडिया पर हो रही आलोचना! 8

अपने इमोशन्स को संभालने में लगे व्यक्ति को किसी और चीज का ख्याल नहीं रहता है। ऐसे में घर से जुड़ी जरूरी चीजें या गुजर चुके व्यक्ति से जुड़े काम जैसे बीमा, पॉलिसी, अकाउंट्स से क्लेम, जिन्हें तुरंत करने की जरूरत पड़ती है, उन्हें भी वह नहीं कर पाता है। इस स्थिति में अगर उनके साथ परिवार के लोग हों, तो वे इन कामों को मैनेज करने में मदद कर सकते हैं। साथ ही घर से जुड़ी चीजों का भी अपने स्तर पर ख्याल रख सकते हैं।

ऋषि कपूर की मौत के बाद माँ नीतू से अलग रह रहे रणबीर कपूर, भड़के लोग, सोशल मीडिया पर हो रही आलोचना! 9

किसी के चले जाने पर जिंदगी में जो खालीपन आ जाता है वह कोई नहीं भर सकता। हालांकि, उस खालीपन पर कम से कम ध्यान जाए, इसके लिए जरूर कोशिश की जा सकती है। ऐसा तभी हो सकता है, जब व्यक्ति का ध्यान उस चीज से हटाने के लिए उसे दूसरी चीजों में इन्वॉल्व किया जाए। उदाहरण के लिए उसे किसी ऐक्टिविटी क्लास में जॉइन करवाया जा सकता है। अकेले होने पर वह शायद क्लास न जाए, लेकिन अगर उसे साथ मिल जाए तो धीरे-धीरे ही सही पर उसकी रुचि भी जाग सकती है। साथ ही अगर उसके पास कोई बात करने वाला इंसान हो, तो उसे दुखी करने वाली चीजों को याद करने का कम मौका मिल पाता है। यह उसे दुख से उबरने में मदद करता है।