अपने पिता को याद कर इमोशनल हुए बॉलीवुड के हीमैन धर्मेंद्र , बोले- आखिरी दम तक दुआएं देते चले जाते हैं!

0
13

दोस्तों बॉलीवुड के हीमैन कहे जाने वाले दिग्गज कलाकार धर्मेंद्र फिलहाल फिल्मों से दूर अपने फार्म हाउस पर समय बिता रहे है, लेकिन वह अक्सर सुर्खियों में बने रहते हैं। वह सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहते हैं। वह अपने फैंस से जुड़े रहने रहते है और अपने फैन के साथ अभिनेता तस्वीरें और वीडियोज भी साझा करते रहते हैं। धर्मेंद्र सोशल मीडिया के जरिए अपनी जिंदगी से जुड़ी बातें भी फैंस के साथ साझा करते रहते हैं। हाल ही में उन्होंने अपने पिता को याद कर एक भावुक पोस्ट शेयर की है।

अपने पिता को याद कर इमोशनल हुए बॉलीवुड के हीमैन धर्मेंद्र , बोले- आखिरी दम तक दुआएं देते चले जाते हैं! 9

बता दे की धर्मेंद्र ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर अपने पिता की तस्वीर साझा की है। इस तस्वीर के साथ धर्मेंद्र ने भावुक पोस्ट भी लिखा है। धर्मेंद्र ने अपने पोस्ट में लिखा, ‘कर्ज, यह मां-बाप का… कभी किसी से चुकाया न गया, आखिरी दम तक दुआएं देते चले जाते हैं और दोस्तों, जीते जी इन्हें इनके न होने का एहसास न दो। मेरे बाबू जी, बरसात के मुहुर्त पर, कैमरा ऑन करते हुए। बॉबी को और पूरी यूनिट को आशीर्वाद दे रहे थे।’ अपने पिता के लिए धर्मेंद्र का लिखा यह भावुक पोस्ट वायरल हो रहा है जिस पर उनके फैंस अपनी प्रतिक्रिया दे रहे है।

अपने पिता को याद कर इमोशनल हुए बॉलीवुड के हीमैन धर्मेंद्र , बोले- आखिरी दम तक दुआएं देते चले जाते हैं! 10

बता दें कि धर्मेंद्र फिल्मी दुनिया से दूर अपने फार्महाउस पर समय बिता रहे हैं। वह अक्सर फार्महाउस की कई तस्वीरें और वीडियोज साझा करते रहते हैं। कभी वह यहां गार्डनिंग करते नजर आते हैं, तो कभी ट्रैक्टर पर घूमते हुए दिखते हैं। हाल ही में उन्होंने अपने फार्महाउस का बगीचा दिखाया था।

अपने पिता को याद कर इमोशनल हुए बॉलीवुड के हीमैन धर्मेंद्र , बोले- आखिरी दम तक दुआएं देते चले जाते हैं! 11 अपने पिता को याद कर इमोशनल हुए बॉलीवुड के हीमैन धर्मेंद्र , बोले- आखिरी दम तक दुआएं देते चले जाते हैं! 12

धर्मेंद्र ने ट्विटर पर एक वीडियो साझा किया। वीडियो में धर्मेंद्र ने अपने फार्महाउस का नजारा तो दिखाया ही साथ ही साथ अपने फैंस से बातचीत भी की। उन्होंने बताया कि वह स्वस्थ हैं और काफी मजा कर रहे हैं। वीडियो में धर्मेंद्र कहते हैं, ‘ऐसा लग रहा था मानों बरसों से बात नहीं हुई आपसे। जज्बाती होना मतलब जरा सा भी कुछ बोल दो तो बुरा लग रहा है। अब मैं भी बाजरे की रोटी मक्खन के साथ खाकर बैठा हूं। घूमता हूं सुबह उठकर। मैं ठीक हूं और स्वस्थ हूं। मुझे आप लोगों से बहुत प्यार है और आप सभी मेरा परिवार हैं। मैं आप लोगों के लिए दुआ भी करता हूं।’