अटल बिहारी वाजपेयी नहीं रहे 93 की उम्र में निधन

0
336

भारत रत्न और तीन बार प्रधानमंत्री रहे अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार शाम 5.05 बजे निधन हो गया। वे 93 वर्ष के थे। दो महीने से एम्स में भर्ती थे। लेकिन, पिछले 36 घंटों के दौरान उनकी सेहत बिगड़ती चली गई। उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था। इससे पहले वे 9 साल से बीमार थे। राजनीति की आत्मा की रोशनी जैसे घर में ही कैद थी। वे जीवित थे, लेकिन नहीं जैसे। किसी से बात नहीं करते थे। जिनका भाषण सुनने विरोधी भी चुपके से सभा में जाते थे, उसी सरस्वती पुत्र ने मौन ओढ़ रखा था।

अटल बिहारी वाजपेयी नहीं रहे 93 की उम्र में निधन 1
अटलजी की सिर्फ एक किडनी काम कर रही थी। 30 साल से अटलजी के निजी फिजिशियन डॉ. रणदीप गुलेरिया की देखरेख में एम्स में उनका इलाज चल रहा था। श्रद्धांजलि में मोदी ने 7 ट्वीट किए। उन्होंने कहा, ‘‘मैं नि:शब्द हूं, शून्य में हूं, लेकिन भावनाओं का ज्वार उमड़ रहा है। हम सभी के श्रद्धेय अटल जी हमारे बीच नहीं रहे। यह मेरे लिए निजी क्षति है। अपने जीवन का प्रत्येक पल उन्होंने राष्ट्र को समर्पित कर दिया था। उनका जाना, एक युग का अंत है। लेकिन वो हमें कहकर गए हैं- मौत की उमर क्या है? दो पल भी नहीं, जिंदगी सिलसिला, आज कल की नहीं। मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूं, लौटकर आऊंगा, कूच से क्यों डरूं?’’

अटल बिहारी वाजपेयी नहीं रहे 93 की उम्र में निधन 2

पीएम मोदी से पहले केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी भी उनसे मिलने पहुंची थीं। उनके बाद केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, सुरेश प्रभु, हर्षवर्धन, जितेंद्र सिंह और अश्विनी कुमार चौबे भी एम्स गए। बात दे की गुरुवार को लालकृष्ण आडवाणी, स्पीकर सुमित्रा महाजन, अमित शाह, राजनाथ सिंह, सुषमा स्वराज और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और सुरेश प्रभु समेत ज्यादातर केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता एम्स पहुंचे। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, अमर सिंह भी अटलजी का हालचाल जानने एम्स गए।

 



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here