Breaking News
Home / Hindi / 5 करोड़ का कर्ज ना चुकाने के मामले में कॉमेडियन एक्टर राजपाल यादव दोषी करार, हो सकती है सज़ा!

5 करोड़ का कर्ज ना चुकाने के मामले में कॉमेडियन एक्टर राजपाल यादव दोषी करार, हो सकती है सज़ा!



सबको हंसाने वाला आज खुद रोने की कगार पर खड़ा है।  बॉलीवुड के जाने माने एक्टर राजपाल यादव की बात कर रहे हैं। असल में राजपाल के खि‍लाफ 5 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मामला चल रहा है, जिसमें अब कोर्ट ने उन्हें दोषी करार दिया।शुक्रवार को दिल्ली के कड़कड़डूमा कोर्ट ने साल 2010 में 5 करोड़ रुपये की कर्ज राशि ना चुका पाने के मामले में राजपाल यादव, उनकी पत्नी और कंपनी को धोखाधड़ी के आरोप में दोषी ठहराया है।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो राजपाल यादव ने एक फिल्म ‘अता पता लापता’ बनाई थी, जिसके लिए उन्होंने बिजनेसमैन से 5 करोड़ रुपये का उधार लिए थे। फिल्म रिलीज हो जाने के बाद भी राजपाल ना जब राशि नहीं चुकाई तो बिजनेसमैन ने उन्हें कई समन भेजे लेकिन वो कोर्ट में नहीं पहुंचे, जिसके चलते कोर्ट उनसे काफी नाराज थी।



खबरों की मुताबिक राजपाल यादव का यह मामला उनकी डायरेक्ट की हुई फिल्म ‘अता पता लापता’ से जुड़ा है। उन्होंने इस फिल्म को बनाने के लिए दिल्ली के व्यवसाय से 5 करोड रुपए का लोन लिया था लेकिन जब यह फिल्म तैयार हो गई तो उसके बाद रिलीज होने के बाद पता चला कि इस फिल्म में लोगों को कुछ भी अच्छा नहीं लगा जिसके कारण यह फिल्म फ्लॉप साबित हो गई। फ्लॉप होने के बाद राजपाल यादव ने जिससे 5 करोड रुपए का लोन लिया था उस व्यवसाय को यह पैसे नहीं लौटाए। फिर उसके बाद उनके खिलाफ और उनकी पत्नी के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई गई। कहा जा रहा है कि अदालत ने इस संबंध में कई बार इन दोनों को पेश होने के लिए कहा लेकिन वह कभी भी अदालत में हाजिर नहीं हुए।

खबरों की माने तो इस फिल्म के लिए 5 करोड़ का लोन सन 2010 में लिया था. जिसके बाद से उनकी फिल्म अता पता लापता सच में ही लापता सी होने लगी। इस फिल्म के बारे में यह कहा जाने लगा कि यह 2012 में अक्टूबर में रिलीज हुई लेकिन केस के चलते इस फिल्म की रिलीज डेट काफी लेट हो गई और यह फिल्म फाइनली 2 नवंबर 2012 को रिलीज हो सकी लेकिन उसके बाद यह फिल्म फ्लॉप हो गई। अभी भी राजपाल यादव पर यह केस चल रहा है दिल्ली के कड़कड़डूमा कोर्ट ने राजपाल यादव, उनकी पत्नी और कंपनी को कर्ज न चुकाने के मामले में दोषी करार दिया। इस मामले में कोर्ट 23 अप्रैल को अपना फैसला सुना सकता है।